व्यंजन (consonants) किसे कहते हैं? व्यंजन की परिभाषा उदाहरण सहित।

व्यंजन (consonants) किसे कहते हैं? और व्यंजन कितने प्रकार के होते हैं?
व्यंजन (consonants) -: स्वर की सहायता से बोले जानेवाले वर्ण व्यंजन कहलाते हैं।
प्रत्येक व्यंजन के उच्चारण में 'अ' स्वर मिला होता है। अ के बिना व्यंजनो का उच्चारण संभव नहीं है।
परंपरागत रूप से व्यंजनों की संख्या 33 मानी जाती है। द्विगुण व्यंजन 'ड़, ढ़' को जोड़ने पर इनकी संख्या 35 हो जाती है।

क वर्ग - क ख ग घ ङ
च वर्ग - च छ ज झ ञ
ट वर्ग - ट ठ ड ढ ण    {द्विगुण व्यंजन - ड़, ढ़ }
त वर्ग - त थ द ध न
प वर्ग - प फ ब भ म
अंत:स्थ - य र ल व
ऊष्म - श ष स ह

व्यंजनों का वर्गीकरण :

व्यंजन (consonants) किसे कहते हैं? और व्यंजन कितने प्रकार के होते हैं?

सामान्य रूप से व्यंजन तीन प्रकार के होते हैं :
स्पर्श व्यंजन
अन्त:स्थ व्यंजन
ऊष्म/संघर्षी व्यंजन

(1) स्पर्श व्यंजन -: जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय वायु फेफड़ों से निकलते हुए मुंह के किसी विशेष स्थान - कंठ, तालु, मुर्धा, दांत या होंट का स्पर्श करते हुए निकलती है तो उन व्यंजनों को स्पर्श व्यंजन कहते हैं।
'क' से 'म' तक 25 व्यंजन स्पर्श व्यंजन कहलाते हैं।
स्पर्श व्यंजनों के 5 वर्ग होते है :
क वर्ग - क ख ग घ ङ
च वर्ग - च छ ज झ ञ
ट वर्ग - ट ठ ड ढ ण
त वर्ग - त थ द ध न
प वर्ग - प फ ब भ म

(2) अंत:स्थ व्यंजन -: जिन वर्णों का उच्चारण पारंपरिक वर्णमाला के बीच अर्थात् स्वरों व व्यंजनों के बीच स्थित हो तो उन्हें अंत:स्थ व्यंजन कहते हैं। इनकी संख्या 4 होती है।
य - तालव्य (तालु)
र - वर्त्स्य (दंतमूल/मसूढ़ा)
ल - वर्त्स्य (दंतमूल/मसूढ़ा)
व - दंतोष्ठ्य (दांत+निचला ओंठ)

नोट -: य, व - अर्द्धस्वर
            र - लुंठित, प्रकंपित, लुढ़ककर
           ल - पार्श्विक

(3) ऊष्म/संघर्षी व्यंजन -: जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय वायु मुख में किसी विशेष स्थान पर घर्षण/रगड़ खा कर निकले और ऊष्मा/गर्मी पैदा करें तो उन्हेंं ऊष्म/संघर्षी व्यंजन कहते हैं।
इनकी संख्या 4 होती है।
श - तालव्य (तालु)
ष - मुर्धन्य (मूर्धा)
स - वर्त्स्य (दंतमूल/मसूढ़ा)
ह - स्वरयंत्रीय (स्वरयंत्र)

• उत्क्षिप्त/द्विगुण व्यंजन -: जिनके उच्चारण में जीभ पहले ऊपर उठकर मूर्धा का स्पर्श करे और फिर झटके के साथ नीचे को आये।
ड़ - मूर्धन्य, सघोष, अल्पप्राण
ढ़ - मूर्धन्य, सघोष, महाप्राण

• संयुक्त व्यंजन -: वे व्यंजन जो दो व्यंजनों से मिलकर बने हो।
  क्ष - क् + ष
  त्र -  त् + र
  ज्ञ - ज् + ञ
  श्र - श् + र

• नासिक्य व्यंजन -: इनकी संख्या पांच होती हैं।
  ङ, ञ, ण, न, म

• वत्सर्य व्यंजन -: इनकी संख्या 4 होती है।
  स, र, ज, ल

• च वर्ग - को स्पर्श संघर्षी व्यंजन कहते हैं।

व्यंजनों के उच्चारण स्थान :

           उच्चारण    अघोष     अघोष       सघोष       सघोष       सघोष
वर्ग        स्थान     अल्पप्राण  महाप्राण   अल्पप्राण   महाप्राण   अल्पप्राण
कंठ्य       कंठ          क           ख           ग             घ            ङ
तालव्य     तालु         च            छ           ज            झ            ञ
मूर्धन्य      मूर्धा          ट            ठ            ड            ढ            ण
दन्त्य       दांत          त            थ            द             ध            न
ओष्ठ्य    ओंठ          प            फ            ब            भ            म

घोषत्व के आधार पर :

घोष का अर्थ है स्वरतंत्रियों में ध्वनि का कंपन।
व्यंजनों के उच्चारण स्थान।

अघोष -: जिन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरतंत्रियों में कंपन न हो।
हर वर्ग का 1ला और 2रा वर्ण, श, ष, स
क, ख, च, छ, ट, ठ, त, थ, प, फ

घोष/सघोष -: जिन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरतंत्रियों में कंपन हो।
हर वर्ग का 3रा, 4था और 5वां वर्ण, अंत:स्थ व्यंजन - य, र, ल, व, ह
ग, घ, ङ, ज, झ, ञ, ड, ढ, ण, द, ध, न, ब, भ, म

प्राणत्व के आधार पर :

जहां प्राण का अर्थ हवा से हैं।

अल्पप्राण -: जिन व्यंजनों के उच्चारण में मुख से कम वायु निकलती है।
हर वर्ग का 1ला, 3रा, और 5वां वर्ण, अंत:स्थ व्यंजन - य, र, ल, व
क, ग, ङ, च, ज, ञ, ट, ड, ण, त, द, न, प, ब, म

महाप्राण -: जिन व्यंजनों के उच्चारण में मुख से अधिक वायु निकलती है।
हर वर्ग का 2रा और 4था वर्ण, ऊष्म/संघर्षी व्यंजन - श, ष, स, ह
ख, घ, छ, झ, ठ, ढ, थ, ध, फ, भ

आगत/ग्रहीत ध्वनियां -: दूसरे देश से लिए गये विदेशी वर्ण।

• अ़रबी-फ़ारसी ध्वनियां -
  अ - अ़क्सर, अ़जब, अ़दालत आदि।
  क़ - क़लम, क़हर, अक़्ल, तक़दीर, तरीक़ा, हक़, मुताबिक़ आदि।
  ख़ - ख़ातून, ख़ारिज, ख़ुद, अख़बार, बुख़ार, तारीख़, आदि।
  ग़ - ग़ज़ल, ग़म, ग़ुलाम, पैग़ाम, दिमाग़, सुराग़, बग़ावत आदि।
  ज़ - ज़लज़ला, कमज़ोर, औज़ार, आज़ादी, मज़दूर, नमाज़, ज़मीर आदि।
  फ़ - फ़ारसी, फ़िराक़, फ़ौलाद, दफ़्तर, सफ़र, कफ़, तारीफ़ आदि।

• अंग्रेजी ध्वनियां -
  ऑ - डॉक्टर, ऑफ़िस आदि।
  फ़ (F) - फ़ार्म, फ़ादर, फ़ी, फ़िल्म, फ़्रांस, ऑफ़ आदि।
  ज़ (Z) - ज़ेबरा, ज़ीरो, ज़िंक, ज़ू आदि।

Comments

Popular posts from this blog

समास (Samas) किसे कहते हैं? समास की परिभाषा उदाहरण सहित।

विसर्ग-संधि (Visarg Sandhi) किसे कहते हैं? उदाहरण सहित।