संधि (Joining) और स्वर-संधि किसे कहते हैं? उदाहरण सहित।

संधि (Joining) किसे कहते हैं? और संधि के कितने प्रकार होते हैं?
संधि (Joining) -: सन्धि (सम् + धि) शब्द का शाब्दिक अर्थ है मेल या जोड़।
दो सार्थक ध्वनि/वर्णें के मेल से जो परिवर्तन/विकार उत्पन्न होता हैं उसे संधि कहते हैं।
उदाहरण:
             परीक्षा + अर्थी = परीक्षार्थी
                परि + ईक्षा = परीक्षा
                देव + आलय = देवालय

संधि (Joining) किसे कहते हैं? और संधि के कितने प्रकार होते हैं?

संधि-विच्छेद -: संधि के नियमों द्वारा मिले वर्णों को फिर मूल अवस्था में ले आने को संधि विच्छेद कहते हैं।
उदाहरण :
              परीक्षार्थी = परीक्षा + अर्थी  
               परमेश्वर = परम + ईश्वर 
                 एकैक = एक + एक

संधि के प्रकार/भेद :

संधि के तीन प्रकार होते हैं -
(1) स्वर-संधि
(2) व्यंजन-संधि
(3) विसर्ग-संधि 

स्वर-संधि किसे कहते हैं?

स्वर-संधि -: स्वर के बाद स्वर अर्थात् दो स्वरों के मेल से जो विकार/परिवर्तन उत्पन्न होता हैं उसे स्वर संधि कहते हैं।

स्वर-संधि किसे कहते हैं?, स्वर संधि के भेद।

सूत्र :
  प्रथम शब्द का अंतिम वर्ण स्वर + द्वितीय शब्द का प्रथम वर्ण स्वर 

स्वर-संधि के भेद :

स्वर-संधि के निम्नलिखित पांच भेद होते हैं।
(I) दीर्घ-संधि
(II) गुण-संधि
(III) वृद्धि-संधि
(IV) यण-संधि
(V) अयादि-संधि 


(I) दीर्घ-संधि -: ह्रस्व-स्वर या दीर्घ-स्वर 'अ, इ, उ' के पश्चात क्रमशः ह्रस्व-स्वर या दीर्घ-स्वर 'आ, ई, ऊ' आएं तो दोनों को मिलाकर दीर्घ-स्वर 'आ, ई, ऊ' हो जाते हैं।
जैसे -
• अ/आ + अ/आ = आ
                              स्व + अर्थी = स्वार्थी
                             देव + आलय = देवालय
                        परीक्षा + अर्थी = परीक्षार्थी
                           महा + आत्मा = महात्मा
• इ/ई + इ/ई = ई
                          अति + इव = अतीव
                           परि + ईक्षा = परीक्षा
                         योगी + इंद्र = योगींद्र
                        रजनी + ईश = रजनीश
• उ/ऊ + उ/ऊ = ऊ
                          भानु + उदय =  भानूदय
                           लघु + ऊर्मि = लघूर्मि
                             भू + उद्धार = भूद्धार
                             भू + ऊष्मा = भूष्मा 

(II) गुण-संधि -: 'अ' और 'आ' के बाद 'इ/ई', 'उ/ऊ', 'ऋ' स्वर आएं तो दोनों के मिलने से क्रमशः 'ए', 'ओ', 'अर्' हो जाते हैं।
जैसे -
• अ/आ + इ/ई = ए
                            नर + इंद्र = नरेंद्र
                          परम + ईश्वर = परमेश्वर
                           महा + इंद्र = महेंद्र
                          राका + ईश = राकेश
• अ/आ + उ/ऊ = ओ
                             पर + उपकार = परोपकार
                            सूर्य + ऊर्जा = सूर्योर्जा
                           महा + उदय = महोदय
                           महा + ऊर्जा = माहोर्जा
• अ/आ + ऋ = अर्
                            देव + ऋषि = देवर्षि
                          सप्त + ऋषि = सप्तर्षि
                          ब्रह्म + ऋषि = ब्रह्मर्षि
                          महा + ऋषि = महर्षि 

(III) वृद्धि-संधि -: 'अ' या 'आ' के बाद 'ए'/'ऐ' आए तो दोनों के मेल से 'ऐ' हो जाता है तथा 'अ' या 'आ' के बाद 'ओ'/'औ' आए तो दोनों के मेल से 'औ' हो जाता हैं।
जैसे -
• अ/आ + ए/ऐ = ऐ
                         एक + एक = एकैक
                         धन + ऐश्वर्य = धनैश्वर्य
                        सदा + एव= सदैव 
                        रमा + ऐश्वर्य =  रमैश्वर्य
• अ/आ + ओ/औ = औ
                         वन + ओषधि = वनौषधि
                       परम + औषध = परमौषध
                       महा + ओजस्वी = महौजस्वी
                       महा + औदार्य = महौदार्य 

(IV) यण्-संधि -: 'इ' या 'ई' के बाद भिन्न स्वर आए तो 'इ' और 'ई' का 'य' हो जाता हैं। और 'उ' या 'ऊ' के बाद भिन्न स्वर आए तो 'उ' और 'ऊ' का 'व' हो जाता हैं। तथा 'ऋ' के बाद भिन्न स्वर आए तो 'ऋ' का 'र्' हो जाता हैं।
जैसे -
• इ/ई + अन्य/भिन्न स्वर = य
                      अति + अधिक = अत्यधिक
                       इति + आदि = इत्यादि
                      अति + उत्तम = अत्युत्तम   
                         नि + ऊन = न्यून
                       प्रति + एक = प्रत्येक
                       देवी + आगमन = देव्यागमन
                     सखी + ऐश्वर्य = सख्यैश्वर्य
• उ/ऊ + अन्य/भिन्न स्वर = व
                          सु + अच्छ = स्वच्छ
                          सु + आगत = स्वागत
                        अनु + इति = अन्विति
                        प्रभु + एषणा = प्रभ्वेषणा
                        गुरु + ओदन = गुर्वोदन
                         भू + आदि = भ्वादि
• ऋ + अन्य/भिन्न स्वर = र् 
                     पितृ + अनुमति = पित्रनुमति
                     मातृ + आज्ञा = मात्राज्ञा
                     पितृ + आज्ञा = पित्राज्ञा
                     मातृ + इच्छा = मात्रिच्छा
                     पितृ + इच्छा = पित्रिच्छा 

(V) अयादि-संधि -: 'ए' , 'ऐ' , 'ओ' , 'औ' स्वरों का मेल दूसरे स्वरों से हो तो 'ए' का 'अय' हो जाता है। और 'ऐ' का 'आय' हो जाता है। 'ओ' का 'अव' हो जाता है। 'औ' का 'आव' हो जाता हैं।
जैसे -
• ए + अन्य/दूसरा स्वर = अय
                       ने + अन = नयन
• ऐ + अन्य/दूसरा स्वर = आय
                       नै + अक = नायक
                       गै + अक = गायक
                       नै + इका = नायिका
• ओ + अन्य/दूसरा स्वर = अव
                      पो + अन = पवन
                      श्रो + अन = श्रवण
                      पो + इत्र = पवित्र
                      गो + ईश = गविश 
• औ + अन्य/दूसरा स्वर = आव
                      पौ + अन = पावन
                      पौ + अक = पावक
                      नौ + इक = नाविक
                     भौ + उक = भावुक

Comments

Popular posts from this blog

व्यंजन (consonants) किसे कहते हैं? व्यंजन की परिभाषा उदाहरण सहित।

समास (Samas) किसे कहते हैं? समास की परिभाषा उदाहरण सहित।

विसर्ग-संधि (Visarg Sandhi) किसे कहते हैं? उदाहरण सहित।