भारतीय गणतंत्र दिवस निबंध - Indian Republic Day Essay - 2020

भारतीय गणतंत्र दिवस, 26 January (Indian Republic Day) राष्ट्रीय पर्व।

           "स्वराज्य हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है।"

भारतीय गणतंत्र दिवस निबंध - Indian Republic Day Essay - 2020

Indian Republic Day भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है जो प्रति वर्ष 26 January को मनाया जाता है।

जिस दिन 26 January आती है। उस दिन हमारे राष्ट्रीय जीवन में एक उत्साह एवं उमंग का वातावरण उत्पन्न हो जाता है। भारतीय जनता इस दिन को बड़ी धूमधाम से मनाती है।

India की राजधानी दिल्ली में यह पर्व विशेष उत्साह से मनाया जाता है। 

इस दिन विद्यालयों में देशभक्ति गीत गाए जाते हैं।
विद्यालयों में बालक बालिकाओं के विभिन्न प्रकार के खेल होते हैं। और बच्चों को मिठाइयां बांटी जाती हैं। जगह जगह पर सार्वजनिक सभाएं होती हैं। लोग आजादी के महत्व को समझते हैं। इस दिन संस्कृति कार्यक्रम और कवि सम्मेलनों का भी आयोजन होता है।

Indian Republic Day महत्वपूर्ण तथ्य -:

26 November 1949 ई॰ को भारत ने संविधान को अंगीकार किया।

26 November 1949 ई॰ को संविधान दिवस कहा जाता है।

26 January 1950 ई॰ को संविधान लागू किया गया।

26 January 1950 ई॰ को भारत को गणराज्य घोषित किया गया।

26 January 1950 ई॰ को गणतंत्र दिवस - Indian Republic Day कहा जाता है।

डॉ० भीमराव आंबेडकर को भारतीय संविधान और प्रारूप समिति का जनक या पिता कहा जाता है।

भारतीय संविधान के निर्माण में कुल भाग 22, अनुच्छेद 395, अनुसूचियां 8 और 14 भाषाएं थी।

Indian Republic Day Festival -:

26 January को Indian Republic Day Festival पर India के राष्ट्रपति द्वारा भारतीय राष्ट्र ध्वज तिरंगा को फहराया जाता हैं और इसके बाद सामूहिक रूप में खड़े होकर राष्ट्रगान गाया जाता है। फिर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा को सलामी दिया जाता है।

Indian Republic Day को पूरे देश में विशेष रूप से India की राजधानी Delhi में बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है।

इस अवसर को याद करने के लिए हर साल एक भव्य परेड इंडिया गेट से राष्ट्रपति भवन तक राजपथ पर राजधानी New Delhi में आयोजित किया जाता है।
इस भव्य परेड में भारतीय सेना के विभिन्न रेजिमेंट, वायुसेना, नौसेना, थलसेना, आदि सभी भाग लेते हैं।

परेड प्रारंभ करते हुए प्रधानमंत्री अमर जवान ज्योति पर पुष्प माला डालते हैं। इसके बाद शहीद सैनिकों की स्मृति में 2 मिनट का मौन रखा जाता। परेड में विभिन्न राज्यों की प्रदर्शनी भी होती हैं, प्रदर्शनी में हर राज्य के लोगों की विशेषता, उनके लोक गीत व कला का दृश्यचित्र प्रस्तुत किया जाता है। 
हर प्रदर्शिनी भारत की विविधता व सांस्कृतिक समृद्धि प्रदर्शित करती है। परेड और जुलूस राष्ट्रीय टेलीविजन पर प्रसारित होता है और देश के हर कोने में करोड़ों दर्शकों के द्वारा देखा जाता है।

2014 में, भारत के 64वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर, महाराष्ट्र सरकार के प्रोटोकॉल विभाग ने पहली बार मुंबई के मरीन ड्राईव पर परेड आयोजित की, जैसी हर वर्ष New Delhi में राजपथ में होती है।

Indian Republic Day का इतिहास -:

भारतीय गणतंत्र दिवस का इतिहास - Indian Republic Day History.

26 November 1949 ई॰ को भारत ने संविधान को अंगीकार किया जिसे संविधान दिवस कहा जाता है।

26 January 1950 ई॰ को संविधान लागू किया गया।

26 January 1950 ई॰ को भारत को गणराज्य घोषित किया गया जिसे गणतंत्र दिवस कहा जाता है।

प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉ० भीमराव आंबेडकर थे।
डॉ. आंबेडकर जी ने 2 वर्ष, 11 माह, 18 दिन में भारतीय संविधान का निर्माण किया।

भारतीय संविधान में कुल सदस्यों की संख्या 389 थी।

भारतीय संविधान में कुल बैठको की संख्या 12, कुल समितियों की संख्या 13 और कुल महिलाओं की संख्या 15 थी।

24 January 1950 को डॉ राजेंद्र प्रसाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति चुने गए थे।

24 January 1950 को ही राष्ट्रीय गान राष्ट्रीय गीत अपनाया गया था।

22 July 1947 को राष्ट्रीय ध्वज अपनाया गया था।
गणतंत्र दिवस भारत के तीन राष्ट्रीय अवकाशों में से एक है, अन्य दो - स्‍वतंत्रता दिवस और गांधी जयंती हैं।

संविधान सभा ने संविधान निर्माण के समय कुल 114 दिन बैठक की।

इस बैठकों में प्रेस और जनता को भाग लेने की स्वतन्त्रता थी। अनेक सुधारों और बदलावों के बाद सभा के 308 सदस्यों ने 24 January 1950 को संविधान की दो हस्तलिखित कॉपियों पर हस्ताक्षर किये। इसके दो दिन बाद संविधान 26 January को यह देश भर में लागू हो गया।

26 January का महत्व बनाए रखने के लिए इसी दिन संविधान निर्मात्री सभा (कांस्टीट्यूएंट असेंबली) द्वारा स्वीकृत संविधान में भारत के गणतंत्र स्वरूप को मान्यता प्रदान की गई।

संविधान के निर्माण के प्रमुख स्त्रोत -:

संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के संविधान से - मौलिक अधिकार, न्यायपालिका की स्वतंत्रता, राष्ट्रपति का पद, उपराष्ट्रपति का पद, उच्चतम न्यायालय, उच्च न्यायालय, राष्ट्रपति पर महाभियोग आदि लिये गए हैं।

ऑस्ट्रेलिया के संविधान से - समवर्ती सूची, व्यापार, वाणिज्य, सदन में दोनों सदनों की संयुक्त बैठक आदि लिये गए हैं।

आयरलैंड के संविधान से - राष्ट्रपति का निर्वाचन लिया गया है।

दक्षिणी अफ्रीका के संविधान से - संविधान में संशोधन, राज्यसभा के सदस्यों का निर्वाचन लिये गए हैं।

जापान के संविधान से - विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया

अनुच्छेद 1 -:

"इंडिया अर्थात भारत राज्यों का संघ"।

Comments

Popular posts from this blog

व्यंजन (consonants) किसे कहते हैं? व्यंजन की परिभाषा उदाहरण सहित।

समास (Samas) किसे कहते हैं? समास की परिभाषा उदाहरण सहित।

विसर्ग-संधि (Visarg Sandhi) किसे कहते हैं? उदाहरण सहित।